मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों, सीएमएचओ, पीएमओ के साथ वीडियो कॉन्...

मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों, सीएमएचओ, पीएमओ के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस जिला अस्पतालों में जल्द से जल्द उपलब्ध हों जीवनरक्षक इंजेक्शन एवं दवा - मुख्यमंत्री

जयपुर, 27 जुलाई। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोविड-19 के हर गंभीर मरीज की जीवन रक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों एवं मेडीकल कॉलजों से संबद्ध चिकित्सालयों में जल्द से जल्द जीवन रक्षक इंजेक्शन उपलब्ध कराए जाएं। उन्होंने कहा कि आगामी 10 दिनों में टोसिलीजूमेब इंजेक्शन एवं रेमीडेसिविर दवा की इन अस्पतालों में उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। साथ ही, आइसीएमआर से अनुमति लेकर जिला अस्पतालों में प्लाज्मा बैंक स्थापित करने के काम को भी गति दी जाए। 
 
श्री गहलोत सोमवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फे्रंस के जरिए प्रदेशभर के सरकारी मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्याें, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों, प्रमुख चिकित्सा अधिकारियों सहित चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ कोरोना नियंत्रण की समीक्षा कर रहे थे।
 
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण रोकने एवं मरीजों के इलाज के लिए धन की कोई कमी नहीं आने देगी। हमारी पुरजोर कोशिश है कि इस बीमारी से मृत्युदर को न्यूनतम स्तर पर लाया जाए। इसके लिए जो भी संसाधन उपलब्ध कराने पडं़े, कराए जाएंगे। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य एवं सीएमएचओ इसके लिए आवश्यकतानुसार अपनी मांग के सम्बन्ध में प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजें। उन्होंने कहा कि जो मरीज ठीक हो रहे हैं, उन्हें प्लाज्मा डोनेट करने के लिए प्रेरित किया जाए ताकि आने वाले दिनों की जरूरत को देखते हुए पर्याप्त मात्रा में प्लाज्मा उपलब्ध हो सके। 
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले करीब 5 माह से चिकित्सकों, नर्सेज एवं पैरामेडिकल स्टाफ ने पूरे समर्पण के साथ काम करके कोरोना नियंत्रण की दिशा में एक मिसाल कायम की है। राजस्थान के सरकारी क्षेत्र के चिकित्सा संस्थानों ने कोरोना के प्रसार को रोकने में सराहनीय कार्य किया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सीएचसी, पीएचसी सहित अन्य अस्पतालों का दौरा करें। इस महामारी को लेकर किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती जाए और हैल्थ प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए आमजन को लगातार जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा कि मौसमी बीमारियों के संक्रमण को रोकने के लिए भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी एवं स्थानीय प्रशासन पूर्व तैयारी रखें। श्री गहलोत ने इस दौरान कोरोना पॉजिटिव केसेज, रिकवरी रेट, होम आइसोलेशन, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग, इंजेक्शन की उपलब्धता, प्लाज्मा थैरेपी की तैयारियों की समीक्षा की। 
 
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि जयपुर, जोधपुर और कोटा में प्लाज्मा थैरेपी की सुविधा शुरू हो चुकी है। उदयपुर में आईसीएमआर से अनुमति मिल चुुकी है। बीकानेर और अजमेर में भी इसे जल्द ही शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में प्लाज्मा थैरेपी शुरू करने के लिए माइक्रो प्लानिंग की जा रही है। राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉर्पोरेशन लिमिटेड को जीवन रक्षक इंजेक्शन की जल्द खरीद के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। 
 
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव श्री अखिल अरोरा ने बताया कि सभी मेडिकल कॉलेजों को टोसिलीजूमेब एवं रेमीडेसिविर आवश्यकतानुसार उपलब्ध कराए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्हाेंने बताया कि आमजन को स्वास्थ्य सुविधाओं एवं उपचार के बारे में सहयोग करने के लिए चयनित स्वास्थ्य मित्रों का सहयोग भी अब कोरोना नियंत्रण एवं जागरूकता के प्रसार में लिया जाएगा। 
 
वीडियो कॉन्फ्रेंस में मुख्य सचिव श्री राजीव स्वरूप, अति. मुख्य सचिव वित्त श्री निरंजन आर्य, अति. मुख्य सचिव गृह श्री रोहित कुमार सिंह, अति. मुख्य सचिव खान श्री सुबोध अग्रवाल, अति. मुख्य सचिव सार्वजनिक निर्माण श्रीमती वीनू गुप्ता, शासन सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री वैभव गालरिया, शासन सचिव खाद्य आपूर्ति श्री हेमन्त गेरा, सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त श्री महेन्द्र सोनी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों, सीएमएचओ, पीएमओ के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस जिला अस्पतालों में जल्द से जल्द उपलब्ध हों  जीवनरक्षक इंजेक्शन एवं दवा - मुख्यमंत्रीमेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों, सीएमएचओ, पीएमओ के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस जिला अस्पतालों में जल्द से जल्द उपलब्ध हों  जीवनरक्षक इंजेक्शन एवं दवा - मुख्यमंत्री