कोविड-19 अधिकारी एवं कर्मचारी अधिक संवेदनशीलता रखते हुए अपने दाय...

कोविड-19 अधिकारी एवं कर्मचारी अधिक संवेदनशीलता रखते हुए अपने दायित्वों का निर्वहन करें -श्रम राज्य मंत्री

जयपुर, 2 जुलाई। श्रम राज्य मंत्री श्री टीकाराम जूली ने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 से पूरा दुनिया संकट में हैं अतः इन परिस्थितियों में अधिकारी एवं कर्मचारी अधिक संवेदनशीलता रखते हुए अपने दायित्वों का निर्वहन करें।
 
श्रम राज्य मंत्री श्री जूली में गुरूवार को अलवर जिले के कलक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे । बैठक में उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम व जागरूकता की गतिविधियों में जनप्रतिनिधियों का सहयोग भी लेें। उन्होंने कहा कि आमजन के कार्यों में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी एवं कर्मचारी के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। 
 
उन्होंने प्रमुख विभागों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि राजकीय दायित्वों के निर्वहन में समन्वय एक महत्वपूर्ण घटक है। अतः समन्वय के साथ कार्य करते हुए समस्याओं का त्वरित निराकरण करें। उन्होंने सीएमएचओ को निर्देश दिये कि जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए हॉटस्पॉट की पहचान कर विभागीय गतिविधियां तेजी से करें। उन्होंने कहा कि भिवाडी की विशेष मॉनिटरिंग करें। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों व कस्बों में निगरानी के कार्यों को बढाएं ताकि इन स्थानों से ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण नहीं फैले। उन्होंने कहा कि जिले में सैम्पलिंग लेने की संख्या में वृद्धि करें। उन्होंने कहा कि सैम्पलिंग बढाने से पॉजिटिव मरीजों की संख्या सामने आएगी और जिससे चिकित्सा विभाग को रोकथाम के लिए अधिक अवसर प्राप्त मिलेंगे।
 
अलवर जिला कलक्टर श्री इन्द्रजीत सिंह ने बताया कि भिवाडी क्षेत्र में आवागमन अधिक होने से संक्रमण के फैलाव की संभावना अधिक है इसके लिए भिवाडी को सैक्टरों में बांटकर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि शीघ्र ही भिवाडी में कन्टेंमेंट क्षेत्रों में दवा किट वितरण की व्यवस्था कराई जा रही है।
 
भिवाडी औद्योगिक क्षेत्र में नियोजित बिहार निवासी श्रमिकों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु होने की जानकारी सामने आने पर श्रम राज्य मंत्री ने उप श्रम आयुक्त को मृतक के परिजनों को श्रम विभाग द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी से कहा कि अर्थव्यवस्था को मनरेगा के माध्यम से मजबूती दी जा सकती है अतः जिले के सभी गांवों में कम से कम दो-दो काम स्वीकृत कर प्रारम्भ करावे। उन्होंने कहा कि ऎसा कोई भी गांव नहीं छूटे जिसमें मनरेगा का काम संचालित नहीं होवे। उन्होंने ग्राम तूलेडा में रोजगार सहायक द्वारा मनरेगा कार्यों में की जा रही अनियमित्ताओं के बारे में अवगत कराया। साथ ही उन्होंने मनरेगा श्रमिकों को कम मजदूरी मिलने की जांच कराने के निर्देश दिये। 
 
श्रम राज्य मंत्री ने अलवर जिले में पेयजल व्यवस्था के बारे में जानकारी लेकर कहा कि विधायक कोष के द्वारा स्वीकृत हैण्डपम्पों की ड्रिलिंग में जो समय लग रहा है वह नहीं लगना चाहिए। उन्होंने कहा कि सूखी बोरिंग निकलने पर जलदाय विभाग द्वारा दूसरे स्थान पर बोरिंग करने में जिस प्रकार विलम्ब किया जाता है उससे पेयजल समस्या बढती है उन्होंने कहा कि इस पर विशेष ध्यान देवे। उन्होंने पेयजल प्रभावित क्षेत्रों में टैन्करों के द्वारा पेयजल वितरण व्यवस्था में ठेकेदार द्वारा की जा रही अनियमित्ता पर नाराजगी जाहिर की। 

श्रम राज्य मंत्री ने जलदाय विभाग एवं विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियन्ताओं से जानकारी प्राप्त की जिसमें समन्वय का अभाव सामने आया। इस पर उन्होंने प्रकरण की जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये ताकि लापरवाह अधिकारी के विरूद्ध कार्रवाई की जा सके। श्रम राज्य मंत्री ने जिले में टिड्डी दल के हमले के बारे में चिन्ता जताते हुए तुरन्त इसकी रोकथाम की कार्रवाई करने के निर्देश दिये। 
बैठक में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री विनय नगायच, नगर विकास न्यास के सचिव श्री जितेन्द्र सिंह नरूका, सीएमएचओ डॉ. ओ.पी मीना व पीएमओ डॉ. सुनील चौहान सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।