कोरोना जागरूकता अभियान को जन-जन तक पहुंचाए - श्रम राज्य मंत्री

कोरोना जागरूकता अभियान को जन-जन तक पहुंचाए - श्रम राज्य मंत्री

जयपुर, 22 जून। कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश में 30 जून तक चलाये जा रहे विशेष जागरूकता अभियान के तहत सेामवार को टोंक जिले में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित हुए। सभी जिला स्तरीय कार्यक्रमों में श्रम राज्य मंत्री एवं टोंक जिला प्रभारी श्री टीकाराम जूली एवं जिला प्रभारी सचिव श्री संदीप वर्मा ने शिरकत की। इस दौरान निवाई पीपलू विधायक श्री प्रशांत बैरवा,जिला पुलिस अधीक्षक आदर्श सिधू,नगर परिषद सभापति अली अहमद,नगरपालिका अध्यक्ष मालपुरा आशा नामा,सीईओ श्री नवनीत कुमार,एडीएम श्री सुखराम खोखर सहित स्थानीय जन प्रतिनिधि एवं अधिकारीगण मौजूद थे। 
 
राज्य स्तरीय जनजागरूकता कार्यक्रम की डिजीटल लॉचिंग से जुडे
 
प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा प्रातः 11 बजे जयपुर से अभियान का डिजिटल लॉन्च किया गया। इस वर्चुअल कॉन्फे्रन्स में जिला प्रभारी मंत्री श्री टीकाराम जूली,प्रभारी सचिव जिला मुख्यालय पर अभियान से जुडे। इस कार्यक्रम में जिले भर के पंचायत स्तर तक के जनप्रतिनिधि,अधिकारी और कार्मिक भी जुडे।
 
कोरोना जागरूकता रथों को दिखाई हरी झण्डी
 
प्रभारी मंत्री ने जिला मुख्यालय से सभी ब्लॉक में जाने वाले कोरोना जागरूकता रथों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। इससे पूर्व कलक्टे्रट सभागार में जागरूकता पोस्टर्स एवं स्टीकर का विमोचन किया। कोरोना महामारी के दौरान जिला प्रशासन, पुलिस विभाग,चिकित्सा विभाग एवं अन्य विभागों द्वारा किये गये कार्यो की डॉक्यूमेंट्री फिल्म प्रदर्शित की गई। प्रभारी मंत्री ने बनास कलाकार समूह टोंक द्वारा कोरोना विषय को केन्द्र में रख कर आयोजित चित्रकला प्रदर्शनी का अवलोकन किया। साथ ही उनके कार्य की प्रशंसा की। प्रभारी मंत्री को चित्रकार श्री अजय मिश्रा, श्री शैलेन्द्र भाटी, श्री महेश गुर्जर, श्री कोमल कुमावत, श्रीमती मानवी जैन, श्री अनंत मिश्रा, श्रीमती प्रियंका शर्मा की ओर से कोरोना से आजादी की जंग इस चित्र में गांधी जी मास्क पहने हुए चित्रित का स्मृति चिन्ह भेंट किया।  
 
इस अवसर पर श्रम राज्य मंत्री श्री टीका राम जूली  ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए इस तरह का विशेष जागरूकता अभियान चलाने वाला राजस्थान देश का पहला राज्य है। यह प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की दूरदर्शिता और त्वरित निर्णय लेने का ही परिणाम है कि प्रदेश में कोरोना महामारी पर हमने अन्य राज्यों की अपेक्षा ज्यादा कुशल ढंग से नियन्त्रण किया है। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश कि इस अभियान को जन-जन तक पहुंचाएं,ताकि लोग कोरोना संक्रमण से होने वाले खतरों को समझते हुए अपने जीवन में आमजन आवश्यक सावधानियां बरतें। दो गज की दूरी, साबुन से बार-बार हाथ धोना, मुंह पर मास्क आदि को अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाएं। सावधानी ही इस महामारी से बचाव का सबसे बेहतर तरीका है। यह बीमारी अमीर और गरीब देखकर नहीं आती है।  
 
मनरेगा को इस महामारी में लोगों को सहारा बताते हुए प्रभारी मंत्री ने इसकी उपयोगिता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जो लोग अपना रोजगार खो चुके है, उनके लिए यह योजना वरदान बनी है। मनरेगा में पूरे देश में सबसे ज्यादा काम देने में राजस्थान प्रथम स्थान पर है। उन्होंने कहा कि इस महामारी में उप मुख्यमंत्री और टोंक विधायक श्री सचिन पायलट ने ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग को नई दिशा दी है।
 
प्रभारी मंत्री ने ली अधिकारियों की बैठक
 
जिला प्रभारी मंत्री ने जिला कलेक्टर श्री के.के.शर्मा सहित अन्य अधिकारियों के साथ कोरोना के संक्रमण की स्थिति के साथ-साथ गैर कोविड बीमारियों की स्थिति, पेयजल आपूर्ति, मनरेगा कार्यो,टिड्डी नियन्त्रण अभियान आदि की समीक्षा की। उन्हाेंने सभी अधिकारियों से कहा कि राज्य सरकार द्वारा आमजन के जनकल्याण के लिए किए गए फैसलों को संवेदनशीलता से लागू करें। इस विकट समय में गरीब व वंचित वर्ग को कोई परेशानी न हो राज्य सरकार की इसी मंशानुरूप कार्य करें।