जयपुर समेत पूरे राजस्थान ने देश को दिखाया कोराना का उत्कृष्ट प्र...

जयपुर समेत पूरे राजस्थान ने देश को दिखाया कोराना का उत्कृष्ट प्रबन्धन -नगरीय विकास मंत्री

जयपुर, 22 जून। प्रदेश में 2 मार्च को कोरोना का पहला मामला मिलने के बाद से ही प्रदेश सरकार ने जिस तरह से कोरोना का प्रबन्धन किया है वह पूरे देश में एक मिसाल बना है। प्रदेश में करीब 15 हजार और जयपुर जिले में 28 सौ से अधिक कोरोना पॉजिटिव मामले मिलने के बावजूद बहुस्तरीय बेहतर प्रबन्धन के माध्यम से प्रदेश में आज स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है और हम कम्प्यूनिटी स्प्रेड को रोकने में कामयाब हुए। आज राजस्थान की रिकवरी रेट देश में सबसे ज्यादा है और कोरोना के मामले दोगुने होने का समय भी सर्वाधिक है। इतना ही नहीं, इस कोरोना महामारी के प्रबन्धन के दौरान सरकार ने आम-जन जीवन से जुडे़ सामान्य चिकित्सा, बिजली-पानी जैसी आधारभूत सुविधाओं को पूरी तरह बनाए रखा है। अब नरेगा के माध्यम से गांव-गांव में इस संकट काल में रोजगार से सम्बल मिल रहा है।
 
नगरीय विकास मंत्री एवं जयपुर जिले के प्रभारी श्री शांति धारीवाल ने सोमवार 
 
आयोजित कार्यक्रम में वार्ता करते हुए यह जानकारी दी। वीडियो कांफे्रंसिंग के माध्यम से हुई वार्ता में उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक जांचों के माध्यम से योजना बद्ध रूप से संक्रमण रोकने के साथ ही चाहे श्रमिकों के पलायन का मामला हो, हर भूखे व्यक्ति को भोजन प्रदान करने का संकल्प हो, सप्लाई चेन को मेन्टेन करने की बात हो, श्रमिकों की आजीविका के लिए प्रबन्ध करने का विषय हो और इन सभी विषयों में धर्मगुरू, विभिन्न राजनीतिक दल, कर्मचारी, व्यापारी वर्ग और सबसे बढकर जन सामान्य को साथ लेकर चलने की बात हो, हर स्तर पर एक-एक कदम, एक-एक निर्णय सोच समझ कर लिया गया है, जिससे हम कोरोना के संक्रमण को रोकने में कामयाब हुए।
 
कुल मिलाकर जयपुर और देश के सबसे बडे़ प्रदेश राजस्थान ने कोरोना प्रबन्ध में एक मिसाल प्रस्तुत करते हुए देशभर में लीड हासिल की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा कोरोना से बचाव के लिए 21 से 30 जून तक चलाए जा रहे विशेष जनजागरूकता अभियान का सोमार को ही शुभारम्भ किया गया है। इसमें प्रदेश के साथ जयपुर जिले में भी गांव मोहल्ले तक कोरोना से बचाव का संदेश पहुंचाया जा रहा है। श्री धारीवाल ने सभी से आग्रह किया कि वे इस अभियान में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें और कोरोना से बचाव के संदेश को अपने-अपने जन संचार माध्यमों से हरगांव-ढाणी तक पहुंचाएं, ताकि कोरोना की इस महामारी से और भी मजबूती से मुकाबला किया जा सके। श्री धारीवाल ने पत्रकारों के कोरोना प्रबन्धन, इसके इलाज, सैम्पलिंग, श्रमिक कल्याण, रोजगार समेत कई विषयो पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रशनों के जवाब दिए।  जयपुर जिले के प्रभारी सचिव श्री सुबोध अग्रवाल, जिला कलक्टर डॉ.जोगाराम, अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रथम श्री इकबाल खान, चतुर्थ श्री अशोक कुमार, उत्तर श्री बीरबल सिंह, पूर्व श्री राजीव पाण्डे, विभिन्न विभागों के अधिकारी शामिल हुए। 
कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए 2298 व्यक्ति 
 
श्री धारीवाल ने बताया कि वर्तमान में जयपुर जिले में कुल 2869 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हैं। इनमें से 2298 लोग नेगेटिव हो चुके हैं। अब तक कोविड-19 के कारण जिले में कुल 145 लोगों की मृत्यु हुई है। वर्तमानमें शेष रहे पॉजिटिव मरीजों की संख्या 427 है। 22 जून को कुल 35 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का कोरोना के प्रारम्भ से ही मानना था कि जितनी ज्यादा सैम्पलिंग होंगी, हम उतना कामयाब होंगे। 21जून तक जयपुर जिले में कुल मिलाकर 1 लाख एक सौ इक्यासी सैम्पल लिए गए हैं।
20 हजार 608 व्यक्तियों का क्वारंटीन खत्म
 
अब तक जिले में कुल 28829 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है। इनमें से 20608 का क्वारंटीन समाप्त हो चुका है और 8221 लोग अभी भी होम क्वारंटीन में हैंं। क्वारंटीन में रखे गए ये व्यक्ति पॉजिटिव केस के सम्पर्क वाले एवं संदिग्ध पाए गए व्यक्ति के सम्पर्क वाले व्यक्ति हैं। 
 
जिले में पर्याप्त चिकित्सकीय संसाधन 
कोरोना संक्रमण को रोकने के साथ ही इसके उपचार के लिए भी पर्याप्त संसाधनों का प्रबन्धन पहले ही कर लिया गया था। आज जिले में दोनों सीएमएचओ क्षेत्र में विभिन्न श्रेणियों में राजकीय एवं अधिग्रहीत अस्पताल मिलाकर कुल 946 अस्पताल हैं। सामान्य स्वास्थ्य सेवाओं की गति को बनाए रखने के लिए ओपीडी मोबाइल वैन जैसे नवाचार किए गए। कोविड की परिस्थितियों के बावजूद गर्भवती माताओं के टीकाकरण मेें 10.45 प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया गया है। टीकाकरण के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए टीकाकरण सत्रों की संख्या बढाई जा रही है।
 
नरेगा में 18 लाख से अधिक श्रम दिवसों का सृजन 
 
नगरीय विकास मंत्री ने बताया कि महात्मा गांधी नरेगा ग्रामीण क्षेत्र में प्रवासियों एवं ग्रामीणों के लिए इस आर्थिक मंदी के दौर में एक बहुत ही भरोसेमंद सम्बल बनकर उभरी है। वर्तमान में जयपुर जिले में कुल 606 ग्राम पंचायतों मेें 536 ग्राम पंचायतों में कार्य जारी हैं। इन कार्यों में कुल 1 लाख 55 हजार, 362 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। 20 जून तक 18 लाख से अधिक श्रम दिवसों का सृजन किया गया है। वर्तमान में सभी ब्लॉक मंक कुल मिलाकर 4321 निजी एवं 4558 सामुदायिक काम जारी हैं। गरीब कल्याण रोजगार अभियान में अन्य राज्यों से वापस लौटे प्रवासी मजूदरों को 25 विभागों से सम्बन्धित विभिन्न प्रकार के कार्याें के जरिए गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा।
 
राज कौशल पोर्टल पर रोजगार के इच्छुक व्यक्तियों का पंजीयन
 
राजस्थान सरकार द्वारा प्रवासियों को घर के नजदीक ही रोजगार प्रदान करने के लिए राज कौशल पोर्टल लांच किया गया है। राज कौशल योजना के अन्तर्गत राज कौशल पोर्टल पर रोजगार के इच्छुक व्यक्ति एवं नियोक्ता पंजीयन करा सकते हैं। 
 
जलापूर्ति, विद्युत आपूर्ति सुचारू
 
आवश्यक सेवाओं में सम्मलित होने के साथ ही गर्मी के मौसम को देखते हुए जलापूर्ति को इस पूरे समय निर्बाध रखा गया है। जयपुर शहर की करीब 38 लाख की आबादी में से 33 लाख आबादी पाइप लाइन से जुड़ी हुई है। वर्तमान में शहर को लगभग 6050 लाख लीटर नलकूपों से एवं बीसलपुर स्त्रोत से जल उत्पादन कर वितरण किया जा रहा है। टेंकर्स एवं अन्य प्रकार से भी आपूर्ति सुचारू है। ग्रामीण क्षेत्र मेंं भी जलापूर्ति में आदिनांक को कोई समस्या नहीं है। कन्टीजेंसी प्लान के 50 लाख, विधायकों दिए गए 25 लाख एवं अन्य मदों से अत्यावश्यक पेयजल आपूर्ति कार्य किए जा रहे हैं।
 
इसी प्रकार जिले में बिजली आपूर्ति भी सुचारू है। जयपुर जिले में सभी कृषि कनेक्शन हेतु कुल 4 ब्लॉक में थ्री फेस विद्युत सप्लाई आपूर्ति दी जाती है। दिनमें 2 ब्लॉक जिसमें 6 घंटे व 2 ब्लॉक रात के जिसमें 7 घंटे बिजली दी जाती है। घरेलू विद्युत आपूर्ति सिंगल फेस में 22 घंटे ़से 24 घंटे सप्लाई दी जार ही है।
 
टिड्डी दलों के 24 हमले, समुचित प्रबन्धन
 
श्री धारीवाल ने बताया कि जिले में करीब 25 वर्ष बाद टिड्डी दल ने आक्रमण किया है। लेकिन जयपुर में इसका बेहतर प्रबन्धन किया जा रहा है। जयपुर जिले में टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए जिला कलक्टर, उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय एवं ब्लॉक/तहसील स्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। साथ ही विषय विशेषज्ञों की मास्टर्स प्रशिक्षक कमेटी भी गठित की गई है। सम्पूर्ण जिले को ‘‘लोकस्ट इनवेजन एन्डेन्जर्ड एरिया’’ घोषित किया गया है। इस सम्बन्ध में एक एडवाइजरी भी जारी की गई है एवं रात्रि में पडाव डाले टिड्डी दलों पर नियमित रूप से नियंत्रण की कार्यवाही की जा रही है।
जयपुर समेत पूरे राजस्थान ने देश को दिखाया कोराना का उत्कृष्ट प्रबन्धन -नगरीय विकास मंत्री