दिल्ली से राजस्थान जाने वाले प्रवासियों को दिक्कत ना हो इसका सरक...

दिल्ली से राजस्थान जाने वाले प्रवासियों को दिक्कत ना हो इसका सरकार ने पूरा ध्यान रखा है - आयुक्त,राजस्थान फाउंडेशन

जयपुर, 11 जून । वैश्विक महामारी कोरोना के राष्ट्रीय राजधानी में बढ़ते हुए केसों के मद्दे नजर दिल्ली और राजस्थान के बॉर्डर पर आवागमन को नियंत्रित किया गया है। बॉर्डर नियंत्रण की इस व्यवस्था से जरूरतमंद प्रवासियों को कोई दिक्कत का सामना ना करना पड़े इसका राजस्थान सरकार ने विशेष ध्यान रखा है। राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्री धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि दिल्ली में लगातार कोरोना के केसों में बढ़ोतरी हो रही है इसको ध्यान में रखते हुए दिल्ली से लगते हुए राजस्थान के बॉर्डर पर आवागमन को नियंत्रित किया गया है लेकिन जो जरूरतमंद लोग हैं जिनमें प्रेग्नेंट महिलाएं या मेडिकल, मृत्यु  से जुड़े हुए केस, या फंसे हुए मजदूरों और विद्यार्थियों को दिल्ली सरकार के सहयोग से पास जारी कर भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है ताकि विशेष परिस्थितियों में लोगों को अपने घर तक जाने में कोई दिक्कत ना हो।
 
श्री धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि वंदे भारत मिशन का तीसरा फेज 10 जून से 1 जुलाई तक चलेगा । इस फेज में विशेष रुप से गल्फ देशों और रशियन रीजन से आने वाले विद्यार्थियों तथा फंसे हुए अन्य श्रेणी के प्रवासियों को लाया जा रहा है। इस मिशन के तहत आने वाले प्रवासी राजस्थानी जो दिल्ली एयरपोर्ट पर लैंड करेंगे उनके पूर्ण रूप से मेडिकल स्क्रीनिंग के बाद उनकी सुविधा और इच्छा अनुसार इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन के लिए भेजा जाएगा जैसे कि पूर्व में भी यही व्यवस्था चल रही थी। उन्होंने बताया कि प्रवासियों को 7 दिन के इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन के बाद 7 दिन होम क्वारेंटाइन में रहना अनिवार्य रखा गया है।