बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर स्टेज-1 एवं बीसलपुर-जयपुर पेयजल स्टेज-2 परि...

बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर स्टेज-1 एवं बीसलपुर-जयपुर पेयजल स्टेज-2 परियोजना का शिलान्यास विषम परिस्थितियों में भी विकास कार्यों को गति दे रही सरकार -मुख्यमंत्री

जयपुर, 12 जून। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जयपुरवासियों के लिए महत्वपूर्ण बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर पेयजल परियोजना फेज-1, स्टेज-1 तथा बीसलपुर-जयपुर पेयजल परियोजना फेज-1, स्टेज-2 का शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं पर करीब 853 करोड़ रुपए की लागत आएगी। बीसलपुर-जयपुर पेयजल परियोजना फेज-1, स्टेज-2 से जयपुर शहर के सभी विधानसभा क्षेत्रों में 170 एमएलडी अतिरिक्त जल उपलब्ध हो सकेगा। 
 
श्री गहलोत ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेशवासियों को बेहतर शिक्षा, चिकित्सा, बिजली, पानी सहित अन्य मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी जैसी विषम परिस्थितियों में भी सरकार विकास के कार्यों को लगातार गति दे रही है, ताकि आमजन को इनका लाभ समय पर मिल सके।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों की पेयजल आवश्यकताओं को देखते हुए कंटीन्जेंसी प्लान के तहत 65 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गयी थी। साथ ही विधायकगण अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में पेयजल जरुरतों को पूरा करने के लिए तत्काल प्रभाव से कार्य करवा सकें, इसके लिए प्रति विधानसभा क्षेत्र 25 लाख रुपये की स्वीकृति भी दी गयी है।
 
श्री गहलोत ने कहा कि कोरोना महामारी आगे किस रुप में हमारे सामने आएगी इसके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता, लेकिन लोगों का जीवन और आजीविका बचाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। राज्य सरकार कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 21 जून से प्रदेशभर में विशेष जागरुकता अभियान चलाएगी। उन्होंने अपील की कि गांव-ढाणी और मौहल्ले तक चलाये जाने वाले इस अभियान को सफल बनाने के लिए सभी जनप्रतिनिधि, अधिकारी, कर्मचारी तथा आमजन अपनी भागीदारी निभायें।
 
जलदाय मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने कहा कि बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर परियोजना पर करीब 563 करोड़ 93 लाख रुपये तथा बीसलपुर-जयपुर परियोजना पर 288 करोड़ 90 लाख रुपये खर्च होंगे। बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर परियोजना पृथ्वीराज नगर एवं आस-पास के इलाकों की वर्ष 2051 तक की पेयजल आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर बनायी गयी है। 

डॉ. कल्ला ने बताया कि पृथ्वीराज नगर क्षेत्र के लोगों को इस परियोजना से अक्टूबर 2022 तक पेयजल उपलब्ध हो सकेगा। इसमें जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा चिन्हित 30 किलोमीटर क्षेत्र की 4 लाख 60 हजार आबादी को पानी मिल सकेगा।
 
वीडियो कांफ्रेंस के दौरान नगरीय विकास मंत्री श्री शांति धारीवाल, कृषि मंत्री श्री लालचंद कटारिया, परिवहन मंत्री श्री प्रताप सिंह खाचरियावास, मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी, राज्य मंत्रिमण्डल के अन्य सदस्य, विधायकगण एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
 
कनक वृंदावन हैडवक्र्स पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हुआ भूमि पूजन
इस मौके पर सिरसी रोड पर पांच्यावाला स्थित कनक वृंदावन के हैड वक्र्स पर भूमि पूजन एवं शिलान्यास कार्यक्रम हुआ। यहां उपस्थित लोगों ने वीसी के जरिए मुख्यमंत्री एवं जलदाय मंत्री डॉ. बीडी कल्ला का सम्बोधन सुना। कार्यक्रम स्थल पर कोविड-19 के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के साथ सीमित संख्या में मास्क पहनकर आए लोगों को थर्मल स्कैनिंग एवं हाथ सैनिटाइज कराने के बाद ही प्रवेश दिया गया। उनको मास्क एवं सैनिटाइजर भी दिए गए। 
 
बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर परियोजना में 175 वर्ग किमी 
में विकसित होगा आधारभूत ढांचा 
बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर पेयजल परियोजना, फेज-1 स्टेज-1 के तहत 175 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में वर्ष 2051 की पेयजल मांग के अनुरुप आधारभूत ढांचा विकसित किया जाएगा। वर्तमान में लोकसभा क्षेत्र जयपुर (शहर) के विधानसभा क्षेत्र सांगानेर एवं झोटवाडा के आठ वार्डों में इस पेयजल परियोजना के फेज-1 स्टेज-1 में 30 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र का वितरण तंत्र विकसित किया जाएगा। इसके तहत वार्ड नं. 18 के सम्पूर्ण क्षेत्र एवं वार्ड 15, 16, 17, 19, 32, 33 एवं 34 के आंशिक क्षेत्र में इस प्रोजेक्ट में वितरण तंत्र विकसित होगा। परियोजना के तहत कुल 39.81 किलोमीटर तक एमएस मुख्य ट्रांसमिशन पाइप लाइन, 37.15 किलोमीटर डीआई राइजिंग पाइप लाइन तथा 88.67 किलोमीटर डीआई एवं 883.07 किलोमीटर एचडीपीई वितरण पाइप लाइन बिछाई जाएगी। 

इस परियोजना में 9 पम्प हाऊस एवं स्वच्छ जलाशयों का निर्माण होगा। ये पम्पहाउस एवं स्वच्छ जलाशय, बालावाला, स्वर्ण विहार, वर्धमान सरोवर-सी, शिव विहार, वेस्ट वे हाईट (आईपीएस-01), केशोपुुरा, कनक वृंदावन, गोकुलनगर (आईपीएस-02) तथा लोहा मंडी में बनाए जाएंगे। इसके साथ ही 19 उच्च जलाशयों का निर्माण भी कराया जाएगा, ये जलाशय नारायण विहार बी, 9-ए तिवाड़ी कॉलोनी, ग्राम गजसिंहपुरा, विजयनगर-एफ, ग्राम गजसिंहपुरा, अशोक वाटिका, ग्राम बदरवास, शिव विहार एफ-2, ग्राम मांग्यावास, निधि विहार, ग्राम मांग्यावास, राधामुकुट विहार, ग्राम गोल्यावास, सुन्दरनगर-प्रथम, ग्राम बलरामपुरा उर्फ खेजडों का बास, सुुमेरनगर-द्वितीय, ग्राम कल्याणपुरा, हीरावाला रजनी विहार, अयोध्या नगर, ग्राम धाबास, कच्ची बस्ती, गिरधारीपुरा, रंगोली गार्डन, बसंत विहार, बजरी मण्डी, जनक विहार, गोकुलनगर योजना, ग्राम गोकुलपुरा एवं गिरिराजनगर आदि जगहों पर निर्मित होंगे। प्रोजेक्ट के कार्य को 30 माह में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।
 
बीसलपुर-जयपुर परियोजना से बाहरी क्षेत्र और नई कॉलोनियों को मिलेगा लाभ
वर्तमान में जयपुर की आबादी करीब 36 लाख 50 हजार है तथा यहां जल की मांग 788 एमएलडी है। इसमें से बीसलपुर बांध द्वारा 460 एमएलडी की आपूर्ति हो रही है, बाकी मांग को अन्य स्रोतों से पूरा किया जा रहा है। राज्य सरकार ने जयपुर शहर एवं इसके बाह्य क्षेत्र जैसे आमेर, जगतपुरा, खो नागोरियन, जामडोली आदि में नई कॉलोनियों एवं आबादी क्षेत्र के विस्तार के तहत तथा आने वाले समय में यहां की जनता की दूरगामी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बीसलपुर-जयपुर पेयजल परियोजना के द्वितीय चरण का प्रस्ताव तैयार किया है। इस योजना से जयपुर शहर एवं आसपास के क्षेत्रों को बीसलपुर से 170 एमएलडी पानी अतिरिक्त मिल सकेगा। इस परियोजना का कार्य अक्टूबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 
बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर स्टेज-1 एवं बीसलपुर-जयपुर पेयजल स्टेज-2 परियोजना का शिलान्यास विषम परिस्थितियों में भी विकास कार्यों को गति दे रही सरकार  -मुख्यमंत्री