राज्य के 15 जिलों के 21 केंद्रों पर कोरोना की जांच की सुविधा -चिकित्...

राज्य के 15 जिलों के 21 केंद्रों पर कोरोना की जांच की सुविधा -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

जयपुर, 3 जून। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि वर्तमान में राज्य के 15 जिलों के 21 केंद्रों पर कोरोना की जांच की जा रही है। सर्वाधिक प्रवासी आने वाले 10 जिलों में जांच सुविधाएं शीघ्र प्रारंभ कर दी जाएंगी। डॉ. शर्मा ने बताया कि आने वाले दिनों में प्रत्येक जिले में जांच सुविधाएं विकसित की जाएगी, ताकि कोरोना का शुरुआती दौर में ही पता चल जाए और संक्रमण ना फैल सके। उन्होंने बताया कि आज तक प्रदेश के सभी जिलों में 18 हजार 250 जांच प्रतिदिन कराने की सुविधा विकसित हो चुकी है, आने वाले दिनों में यह आंकड़ा 25 हजार तक पहुंच जाएगा। कोबास-8800 के आने के बाद जयपुर और जोधपुर में जांच सुविधाएं बढ़ेंगी और 9 हजार जांचें प्रतिदिन और कर पाएंगे। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोविड के अलावा बीमारियों के उपचार के लिए प्रदेश में 550 मोबाइल ओपीडी वैन चलाई गई, जिससे लाखों लोग लाभान्वित हो चुके हैं। आमजन को घर बैठे ऑनलाइन चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया। जहां हजारों लोग सीधे या ई-मित्र के जरिए परामर्श और उपचार ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश का सबसे बड़ा एसएमएस अस्पताल, जयपुरिया, ईएसआई अस्पताल को कोविड फ्री कर दिया है और सभी जिलों में बड़े अस्पतालों कोविड फ्री किया जा रहा है, आम बीमारियों का इलाज सुनिश्चित किया जा सके। सभी राष्ट्रीय कार्यक्रम, टीकाकरण व अन्य कार्यक्रम जारी रह सकें। सभी रूकी हुई सर्जरी व अन्य बीमारियों के इलाज करने के भी निर्देश जारी किए जा चुके हैं। राज्य में चिकित्सा के क्षेत्र में एक नया वातावरण बन रहा है। डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश के सभी निजी चिकित्सालयों को कोविड पीड़ितों के इलाज के लिए भी सरकार ने पाबंद किया, जिससे लोगों को राहत भी मिली। जिन अस्पतालों ने इलाज में आनाकानी की उन्हें चेतावनी भी दी और उनके खिलाफ कार्यवाही भी की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मजबूत करने के लिए विधायक कोष की राशि आगामी 2 वषोर्ं तक केवल स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च की जाएगी। उन्होंने कहा कि इन सेवाओं से आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी और प्रदेशवासी निरोगी रह सकेंगे। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि निरोगी राजस्थान अभियान को गति और मजबूती देने के लिए प्रदेश के सभी राजस्व गांवों से 1-1 महिला और पुरुष चयन किया जा रहा है। जून माह में चयन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। ऎसे व्यक्ति जो स्वेच्छा से आमजन की सेवा करना चाहते हैं, उन्हें इस पुनीत कार्य के लिए चुना जाएगा। ये स्वास्थ्य मित्र राज्य और केंद्र सरकार की स्वास्थ्य से जुड़ी कल्याणकारी योजनाओं को गांव-गांव, ढाणी-ढाणी तक ले जाने का काम करेंगे, ताकि ज्यादा से ज्यादा योजनाओं का लाभ उठा सकें। ये स्वास्थ्य मित्र विभाग के ब्रांड एंबेसेडर बनकर लोगों को स्वस्थ रहने के लिए भी प्रेरित करेंगे।