लॉकडाउन अवधि में एमएसपी पर मात्र 45 दिन में 14.52 लाख मैट्रिक टन गेहूं...

लॉकडाउन अवधि में एमएसपी पर मात्र 45 दिन में 14.52 लाख मैट्रिक टन गेहूं का किया उपार्जन गत वर्ष की खरीद से ज्यादा उपार्जन कर किसानों को पहुंचाई राहत

जयपुर, 3 जून। प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गत वर्ष 90 दिनों में 14 लाख 11 हजार मैट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई। लेकिन इस वर्ष लॉकडाउन अवधि होने के बावजूद खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अथक प्रयासों से केवल 45 दिनों में गत वर्ष की खरीद को पीछे छोड़ते हुए अभी तक न्यूनतम समर्थन मूल्य पर (वर्ष 2020-21) 14 लाख 52 हजार 444 मैट्रिक टन गेहूं की खरीद कर ली गई है। विभाग ने गत रबी विपणन वर्ष (2019-20) के लक्ष्य से ज्यादा खरीद कर प्रदेश के किसानों को राहत पहुंचाई है। गेहूं की खरीद हेतु 460 क्रय केन्द्र किए स्थापित खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री रमेशचन्द मीना ने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के कारण लॉकडाउन घोषित कर दिया गया था, इसके बावजूद भी 16 अप्रेल से खरीद शुरू कर दी गई। उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी के बचाव के लिए सामाजिक दूरी एवं मानव सम्पर्क रहित गेहूं की खरीद प्रक्रिया किया जाना जरूरी था, इसके लिए विभाग द्वारा प्रदेश में गेहूं की खरीद हेतु क्रय केन्द्रों की संख्या गत वर्ष के मुकाबले 204 से बढ़ाकर 460 कर दिए गए। प्रदेश में पहले 17 लाख मैट्रिक टन गेहूं खरीद का लक्ष्य दिया गया था लेकिन कोटा सम्भाग में गेहूं की अच्छी पैदावार होने के कारण प्रदेश में गेहूं खरीद के लक्ष्य को बढ़ाकर 20.66 लाख मैट्रिक टन कर दिया गया है। साथ ही पुराने बारदानों को उपयोग में लेने की स्वीकृति विभाग द्वारा भारत सरकार से प्राप्त की गई। इस दौरान क्रय केन्द्रों पर गेहूं की खरीद की गति को बढ़ाया गया। कोविड-19 के दौरान कोटा में गेहूं के उठाव के लिए रैक की विशेष व्यवस्था की गई। गत वर्ष से ज्यादा जिलों में एमएसपी पर गेहूं की हुई खरीद खाद्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश के जिलों में गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद अब तक ज्यादा हुई है। उन्होने बताया कि इस वर्ष श्रीमंगानगर में 4 लाख 85 हजार 631, हनुमानगढ में 4 लाख 18 हजार 354, कोटा में 1 लाख 39 हजार 628, बून्दी में 1 लाख 34 हजार 118, बारां में 64 हजार 5, झालावाड में 43 हजार 177, चित्तौडगढ में 31 हजार 206, भरतपुर में 27 हजार 360, बांसवाडा में 22 हजार 790, भीलवाडा में 17 हजार 484, अलवर में 14 हजार 367, प्रतापगढ में 9 हजार 532 एवं अजमेर में 3 हजार 931 मैट्रिक टन गेहूं की खरीद कर ली गई है। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा रबी विपणन वर्ष 2020-21 के अन्तर्गत गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1 हजार 925 रूपए प्रति क्विंटल घोषित किया है।