राजफैड़ ने एक दिन में सर्वाधिक 32 हजार मीट्रिक टन खरीद का बनाया रिक...

राजफैड़ ने एक दिन में सर्वाधिक 32 हजार मीट्रिक टन खरीद का बनाया रिकॉर्ड प्रतिदिन औसतन 28 हजार मीट्रिक टन हो रही है खरीद पिछले वर्ष की तुलना में 20 दिन में 1100 करोड़ रूपये की अधिक खरीद

 जयपुर, 22 मई। सहकारिता मंत्री, श्री उदयलाल आंजना ने कहा कि कोविड़-19 महामारी के दौरान पिछले वर्षो की तुलना में 20 दिन की अवधि में समर्थन मूल्य पर चना एवं सरसों की अधिक खरीद कर रिकॉर्ड कायम किया है। वर्ष 2019 में खरीद प्रारंभ होने से 20 दिन में 261 करोड़ रुपये जबकि वर्ष 2020 में 1370 करोड़ रुपये की ऎतिहासिक खरीद कर किसानों को राहत दी है। उन्होंने बताया कि अन्य राज्यों राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, उतर प्रदेश एवं महाराष्ट्र द्वारा की जा रही सरसाें एवं चना खरीद की तुलना भी देखे तो सभी राज्यों की खरीद का योग भी मात्र 1008 करोड़ रूपये है।

 
      श्री आंजना ने बताया कि 20 मर्ई तक सरसों एवं चना की 2.85 लाख मीट्रिक टन सरसाें एवं चना की खरीद हो चुकी है। जिसकी राशि 1370.18 करोड़ रुपये है। जबकि वर्ष 2019 में उक्त 20 दिन की अवधि में  61 हजार 190 मीट्रिक टन खरीद हुई थी। जिसकी राशि 261.22 करोड़ रुपये थी तथा 3025 किसानों से उपज खरीदी गई थी। जबकि इस वर्ष 1 लाख 16 हजार 683 किसानों से उपज खरीदी गई।
 
      सहकारिता मंत्री ने बताया कि पिछले वर्ष डेढ माह में 1370 करोड़ रुपये की उपज खरीदी गई थी। जबकि इस वर्ष मात्र 20 दिन में यह ऎतिहासिक उपलब्धि प्राप्त की है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष किसानों को भी 3 से 4 दिन में ऑनलाइन भुगतान  किया जा रहा है। जबकि  पिछले वर्ष 19.64 करोड़ का भुगतान किसानों को किया गया था। इस वर्ष 1082 करोड़ रुपये का भुगतान किसानों को किया जा चुका है।
 
      श्री आंजना ने प्रबंध निदेशक, राजफैड श्रीमती सुषमा अरोड़ा एवं खरीद कार्य में लगे सभी अधिकारियों एवं कार्मिकों के कार्यो को सराहा है। उन्होंने बताया कि कार्मिकों के समर्पण के बिना कोविड़-19 जैसी महामारी के दौर में भी कठिनाईयों का सामना करते हुए यह उपलब्धि हासिल करना बहुत बड़ी बात है। उन्होंने इस कार्य में लगे सभी अधिकारियों एवं कार्मिकों को बधाई दी।
 
      सहकारिता मंत्री ने बताया कि किसानों को अपने खेत के नजदीक उपज बेचान की सुविधा के लिए 799 खरीद केन्द्र स्थापित किये है। हमारी सरकार किसानों के हित में निरन्तर फैसले लेकर उन्हें राहत प्रदान कर रही है।