प्रवासी मजदूरों को 2 महीने के लिए 5 किलो ग्राम प्रति व्यक्ति निःशु...

प्रवासी मजदूरों को 2 महीने के लिए 5 किलो ग्राम प्रति व्यक्ति निःशुल्क गेहूं का होगा वितरण -खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री

जयपुर, 20 मई। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री रमेश चन्द मीना ने बताया कि लॉक डाउन के कारण अन्य राज्यों से लौट रहे ऎसे प्रवासी मजदूर जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा में चयनित नहीं है उन्हें दो महीने (मई-जून) के लिए प्रति व्यक्ति 5 किलो ग्राम गेहूं प्रतिमाह निःशुल्क उपलब्ध करवाया जायेगा। उन्होेंने बताया कि अन्य राज्यों से कॉविड-19 के कारण लॉक डाउन की वजह से राज्य में राज्य के निवासी व्यक्तियों के अलावा राज्य में कार्य कर रहे अन्य राज्य के व्यक्ति जिनके कोरोना महामारी के कारण उद्योग धन्धे बन्द हो जाने से रोजगार विहीन हो गये, लेकिन अपने गृह राज्य नहीं जा सके को भी सम्मलित किया गया है।
 
श्री मीना ने बताया कि प्रदेश में विशेष श्रेणी के परिवारों तथा प्रवासी मजदूरों का शीघ्र सर्वे कर चिन्हीकरण करवाया जा रहा है। उन्होनें बताया की राज्य में आने वाले प्रवासियों में से कुछ मजदूरो द्वारा ई-मित्र पोर्टल पर अपना पंजीयन करवाया है तथा अन्य राज्य से प्रदेश में आने प्रवासियों का विवरण फार्म संख्या 4 में दर्ज हैंं। जिन फार्म में आधार या जन आधार नम्बर दर्ज नहीं है उन्हें खाद्यान्न वितरण किये जाने के लिए डाटा में जल्दी आधार या जन आधार नम्बर दर्ज किये जाएंगे।
 
खाद्य मंत्री ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण बन्द हुए उद्योग धन्धों के कारण इन्ट्रा एवं इन्टर डिस्ट्रीक अप्रवासित या अन्य राज्यों के प्रदेश में रहे कामगार लोगो का विस्तृत सर्वे करवाया जायेगा जिससे पात्र व्यक्ति खाद्यान्न सुरक्षा से वंचित नहीं हो सकेंगें। उन्होने बताया कि प्रदेश में बड़ी संख्या में ऎसे प्रवासियों की संख्या भी हो सकती है जिनकी सूचना फार्म संख्या-4 के आधार पर डाटाबेस में उपलब्ध नहीं है उनका भी सर्वे करवाया जायेगा। विशेष श्रेणी के परिवारों के चिन्हीकरण के लिए जन आधार के डेटाबेस का प्रयोग किया जायेगा।  
 
डेटाबेस में आधार या जन आधार नम्बर होगा दर्ज
 
श्री मीना ने बताया कि प्रदेश में जिन प्रवासियों की सूचना फार्म-4 के आधार पर उपलब्ध है उनका दुबारा सर्वे नहीं किया जायेगा उनके उपलब्ध डेटाबेस में आधार या जन आधार नम्बर दर्ज किया जायेगा। उन्होनें बताया कि शेष प्रवासियों या विशेष श्रेणी के सर्वे के लिए जन आधार के डेटाबेस को काम में लिया जाएगा। 
 
मोबाईल ऎप या ई-मित्र कियोस्क के माध्यम से होगा सर्वे
 
खाद्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश में विशेष श्रेणी के परिवारो एवं प्रवासियों का सर्वे केवल मोबाईल ऎप या ई-मित्र कियोस्क के माध्यम से ही किया जायेगा। उन्होनें बताया कि अन्य राज्यो के प्रवासी जो प्रदेश में उद्योग धन्धों में कार्यरत रहे है ऎसे प्रवासियों का जन आधार नहीं होने के कारण कोई भी आकडे़ उपलब्ध नहीं है ऎसे प्रवासियों की सूचना सर्वे के दौरान आधार नम्बर के आधार पर मोबाईल ऎप में दर्ज कर प्राप्त की जाएगी।
 
प्रवासियों एवं विशेष श्रेणी परिवारों का होगा सर्वे
 
श्री मीना ने बताया कि प्रदेश में प्रवासियों एवं विशेष श्रेणी परिवारों का ग्रामीण क्षेत्र में  ग्राम पंचायत स्तरीय कोर ग्रुप एंव बीएलओ द्वारा एवं शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय के माध्यम से सर्वे करवाया जायेगा। उन्होंने ने बताया कि प्रवासी, विशेष श्रेणी के व्यक्ति या परिवार मोबाईल ऎप या ई-मित्र पर जाकर स्वयं अपना पंजीयन कर सकते है। सर्वे के दौरान सभी प्रवासियों, विशेष श्रेणी के परिवारों से व्यवसाय एवं आजीविका की सूचना आवश्यक रूप से प्राप्त की जायेगी। मोबाईल ऎप पर विशेष श्रेणी के व्यवसाय या आजीविका की सूची उपलब्ध रहेगी
 
प्रवासियों को गेहूं का वितरण उचित मूल्य की दुकान से होगा।
 
खाद्य मंत्री ने बताया की प्रदेश में प्रवासियों को दो महीने (मई-जून) के लिए प्रति व्यक्ति 5 किग्रा गेहूं का निःशुल्क वितरण उचित मूल्य की दुकान से ही किया जाएगा। उन्होनें बताया की वर्तमान में उचित मूल्य दुकानों पर राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्य योजना का गेहूं एवं दाल तथा चीनी का वितरण किया जा रहा है। उचित मूल्य की दूकानो पर गेहूं वितरण के समय सामाजिक दूरी के माप दण्डो की सख्ती से पालना करनी होगी।