विदेश से आने वाले राजस्थानियों के लिए समुचित क्वारंटाइन प्रक्र...

विदेश से आने वाले राजस्थानियों के लिए समुचित क्वारंटाइन प्रक्रिया होगी सुनिश्चित - अति. मुख्य सचिव उद्योग • 22 मई को इग्लेण्ड से आयेगी पहली फ्लाइट

जयपुर, 20 मई। विदेशों से आ रहे राजस्थानियों के जयपुर एयरपोर्ट पर पहुंचने एवं इसके बाद एयरपोर्ट से बाहर निकलने तक उनके मूवमेंट, चिकित्सा जांच, संस्थागत क्वारंटाइन इत्यादि की प्रक्रिया और इसके लिए एयरपोर्ट पर उपलब्ध सभी व्यवस्थाओं की समीक्षा हेतु अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल की अध्यक्षता में सचिवालय में बैठक आयोजित की गई। 
अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग, डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि विदेश मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, आने वाले दिनों में जयपुर आने वाली लगभग 14 फ्लाइट्स में करीब 2000 राजस्थानियों के आने की सम्भावना है। उन्होंने बताया कि यह फ्लाइट्स कजाखस्तान, कनाडा, यूके, रूस आदि देशों से आने वाली है। इनमे से पहली फ्लाइट 22 मई को लंदन, यूके से दोपहर 01.40 बजे जयपुर आयेगी।
 
एसीएस डॉ. सुबोध अग्रवाल, ने निर्देश दिए कि सभी यात्रियों को क्वारंटाइन में रहने के दौरान गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों का पालन किया जाना सुनिश्चित किया जाए। इन दिशा निर्देशों की प्रतियां सभी होटलों में वितरित कर होटल प्रबंधन द्वारा इन्हें उपयुक्त स्थानों पर डिस्प्ले किया जाए। साथ ही इन दिशा निर्देशों को ऑडियो विडियो के माध्यम से भी लगातार सभी क्वारंटाइन सेंटर्स पर प्रचारित प्रसारित किया जाए।
 
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा समय समय पर फ्लाइट्स के आने से पहले और यात्रियों के क्वारंटाइन सेंटर्स/ होटलों में पहुंचने के बाद इस सम्बन्ध में ब्रीफिंग की जाएगी।
 
चूंकि राज्य सरकार और प्रशासन द्वारा इन सभी यात्रियों के आगमन पर इनके संस्थागत क्वारंटाइन की सभी व्यवस्थाएं की जा रही है जो कि गृह मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार अनिवार्य है। उन्होंने  कहा कि सभी यात्रियों के परिजनों से अनुरोध है कि वे विदेश से आये परिजनो से मिलने के लिए एयरपोर्ट या क्वारंटाइन वाली जगहों पर ना जाए। इनके क्वारंटाइन की अवधि समाप्त होने पर ये लोग अपने घरों को जा सकेंगे।
 
बैठक में श्री दिनेश कुमार, सीएमडी, आरवीपीएनएल, श्री टी. रविकांत, आयुक्त, जेडीए , श्री आशुतोष ए. टी. पेडनेकर, प्रबंध निदेशक, रीको , श्री सुष्मित बिस्वास, एडीजी, एसडीआरएफ , श्री अकुल भार्गव, तकनीकी निदेशक, वित्त विभाग  उपस्थित थे।