कानोता श्रमिक शिविर में संभागीय आयुक्त एवं जिला कलक्टर के दौरे क...

कानोता श्रमिक शिविर में संभागीय आयुक्त एवं जिला कलक्टर के दौरे के बाद एक ही दिन में सुधरीं व्यवस्थाएं

जयपुर, 18 मई। संभागीय आयुक्त श्री के.सी.वर्मा ने बताया कि सोमवार को कानोता स्थित श्रमिक शिविर में अपने घर जाने के इंतजार में रह रहे प्रवासी श्रमिकों को ठंडा पानी उपलब्ध कराने के लिए मटके रखवा दिए गए हैं, खाना पत्तलों में दिया जाने लगा है और रविवार को दौरे में दिए गए निर्देशों की पालना के बाद शिविर व्यवस्थित हो गया है। उन्होंने बताया कि सोमवार को भी कानोता के श्रमिक कैम्प से 20 बसें उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हुईं जिनमें करीब 700 प्रवासियों को भरतपुर बॉर्डर से हाथरस की ओर रवाना किया गया। 
 
श्री वर्मा ने बताया कि रविवार को श्रमिकों ने हाल पूछने पर उन्होंने घर जाने की इच्छा के अलावा ठंडे पानी एवं अन्य सुविधाओं की मांग की थी, जिसे लेकर मौके पर ही अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए थे। अब सभी श्रमिकों के लिए मटकें के पानी की व्यवस्था, अतिरिक्त टेंट, खाने के लिए डिस्पोजल,  पत्ते-दोने की व्यवस्था कर दी गई है। साथ ही चल शौचालय भी रखवाए गए हैं। 
 
श्री वर्मा ने बताया कि शिविर में बिहार जाने का इंतजार कर रहे करीब 650 प्रवासियों को दो-तीन दिन बाद बिहार जाने वाली टे्रन से उनके गृह राज्य भेजा जाएगा। कानोता के अलावा महवा शिविर से भी 200 प्रवासी श्रमिकों को उत्तर प्रदेश के लिए रवाना किया गया है। सोमवार को भरतपुर की सीमा से 50 बसों में करीब 1500 श्रमिक उत्तर प्रदेश रवाना हुए।
 
संभागीय आयुक्त ने बताया कि जिले में प्रवासी श्रमिक  पैदल अपने गंतव्य के लिए नहीं जा रहे।  अगर कहीं कोई भी ऎसा व्यक्ति मिलता है तो उसे इन शिविरों में लाकर रखा जा रहा है ताकि साधनों का इंतजाम होने पर उन्हें सुरक्षित उनके गृह राज्यों में भेजा जा सके।
कानोता श्रमिक शिविर में संभागीय आयुक्त एवं जिला कलक्टर के  दौरे के बाद एक ही दिन में सुधरीं व्यवस्थाएं