आगरा जिले से लगी सीमाओं को सख्ती से करें सील कोरोना संक्रमण की रो...

आगरा जिले से लगी सीमाओं को सख्ती से करें सील कोरोना संक्रमण की रोकथाम में बेहतर कार्य करने पर चिकित्सा कर्मियों को दी बधाई आगरा से लगी जिले की सीमाओं का किया अवलोकन

जयपुर, 4 मई। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने सोमवार को शहर के कफ्र्यू ग्रस्त क्षेत्र एवं आगरा जिले की सीमाओं से लगे चैक पोस्टों का अवलोकन कर पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिये कि सीमाओं को सख्ती से सील करें ताकि कोई व्यक्ति आगरा की ओर से भरतपुर जिले में प्रवेश नहीं कर सके। उन्होंने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के बेहतर कार्य पर चिकित्सा कर्मियों, पुलिस व प्रशासन के कार्मिकों को बधाई देते हुये कहा कि आगामी दिनों में भी इसी तरह की जिम्मेदारी का मिलकर निर्वहन करना होगा तभी जिले को कोरोना से मुक्ति दिला सकेंगे।
 
डॉ. गर्ग ने कफ्र्यूग्रस्त क्षेत्र का दौरा किया और नगर निगम में आयोजित बैठक में निगम एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिये कि कफ्र्यू के दौरान साफ-सफाई , खाद्य पदाथोर्ं एवं दवाईयों की आपूर्ति सुचारू रूप से बनाये रखें । उन्होंने निर्देश दिये कि कफ्र्यू के दौरान आवाजाही पर सख्ती से पाबन्दी लगायें । उन्होंने निगम मेयर को निर्देश दिये कि लॉकडाउन के दौरान शहर मेें आवारा पशुओं को पकड़कर गौशाला भिजवायें । बैठक में नगर निगम के मेयर श्री अभिजीत कुमार, अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर राजेश गोयल, नगर निगम आयुक्त नीलिमा तक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. मूलसिंह राणा, पुलिस उप अधीक्षक शहर हवासिंह भी उपस्थित थे।
 
चिकित्सा राज्य मंत्री इसके पश्चात उत्तर प्रदेश की सीमा पर बने ऊंचा नगला चैक पोस्ट का अवलोकन किया और उत्तर प्रदेश से आवाजाही को सख्ती से रोकने के निर्देश दिये। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि उत्तर प्रदेश की ओर से आने वाले प्रत्येक वाहन की जांच कर उसकी जानकारी भी रजिस्टर में इन्द्राज कर संबंधित अधिकारी को उपलब्ध करावें। उन्होंने मेडिकल ग्राउण्ड के अलावा किसी भी व्यक्ति को भरतपुर जिले में प्रवेश नहीं करने के निर्देश देते हुये कहा कि कच्चे रास्तों में जेसीबी से गड्डे खुदवाकर आवाजाही पर पाबन्दी लगवायें। उन्होंने बहनेरा के उच्च माध्यमिक विद्यालय में पश्चिम बंगाल के प्रवासी श्रमिकों के आवास एवं भोजन आदि की उपलब्धता की जानकारी लेकर पूछताछ की जिन्होंने सभी व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने आगरा जिले से लगी भरतपुर जिले की सीमा नूरपुर, बाघई एवं कारौठ की सीमा चौकियों का भी अवलोकन किया और निर्देश दिये कि किसी भी स्थिति में बाहरी व्यक्तियों का जिले में प्रवेश नहीं हो ।
 
डॉ. गर्ग ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम में उल्लेखनीय कार्य करने पर चिकित्सालय के सभी कार्मिकों को बधाई देते हुये कहा कि यदि आगरा से दो संक्रमित व्यक्ति नहीं आते तो भरतपुर भीलवाडा मॉडल से अधिक सफल मॉडल के रूप में बन सकता था। सभी कार्मिकों ने मिलकर 112 संक्रमित रोगियों में से 103 को निगेटिव कर उल्लेखनीय कार्य किया है। उन्होंने शहरवासियों से भी आग्रह किया है कि वे लॉकडाउन के नियमों की पालना कर पुलिस प्रशासन का सहयोग करें।
 
मृतक चिकित्साकर्मी के परिजनों को बंधाया ढांढस, दो लाख रूपये की सहायता राशि का चैक  प्रदान किया।
 
पिछले दिनों मेडिकल कॉलेज के चिकित्सा अधिकारी डॉ. रोहताश की सडक दुर्घटना में हुई मृत्यु पर चिकित्सा राज्य मंत्री ने उनके निवास पर जाकर परिजनों को ढांढस बंधाते हुये विश्वास दिलाया कि राज्य सरकार उनके साथ है और परिवार के लिये हरसम्भव सहायता मुहैया करायेगी। उन्होंने मृतक के पिता को मुख्यमंत्री सहायता कोष से दो लाख रूपये का चैक प्रदान किया।
 
कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये नगर निगम ने 75 लाख रूपये की सहायता प्रदान की
 
चिकित्सा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग के आग्रह पर कोरोना संक्रमण के बचाव के लिये आवश्यक दवाईयां, सामग्री एवं उपकरण खरीदने के लिये नगर निगम ने 75 लाख रूपये का चैक निगम के मेयर अभिजीत कुमार ने जिला प्रशासन को प्रदान किया। इस राशि से आरबीएम चिकित्सालय में कोरोना संक्रमण के बचाव के लिये किये जा रहे कायोर्ं को अधिक सुव्यवस्थित तरीके से सम्पादित किया जा सकेगा।
 
आगरा जिले से लगी सीमाओं को सख्ती से करें सील कोरोना संक्रमण की रोकथाम में बेहतर कार्य करने पर  चिकित्सा कर्मियों को दी बधाई आगरा से लगी जिले की सीमाओं का किया अवलोकन