प्रदेश में लिए जा चुके हैं 87 हजार से ज्यादा सैंपल, संक्रमण में लगा...

प्रदेश में लिए जा चुके हैं 87 हजार से ज्यादा सैंपल, संक्रमण में लगातार आ रही है गिरावट -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

जयपुर, 27 अप्रेल। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. रघु शर्मा ने बताया कि कोरोना को हराने के लिए प्रदेश में अब तक 87 हजार से ज्यादा सैंपल लिए जा चुके हैं। देश में किसी भी राज्य ने अभी तक इतने सैंपल नहीं लिए हैं। यही वजह है कि प्रदेश में संक्रमण के प्रतिशत में गिरावट देखी जा रही है।
 
डाॅ. शर्मा ने बताया कि जांच के डेटा के अनुसार कोई दिन ऐसा नहीं बीता होगा जब 3.5 हजार से 5 हजार सैंपल प्रतिदिन नहीं लिए गए हों। प्रतिदिन का डाटा एकत्रित कर भारत सरकार को भेजा जाता है। प्रदेश में पर्याप्त सैंपलिंग ली जा रही है यही वजह है कि मरीजों के दोगुने होने का ग्राफ 12 दिन हो गया जो पहले 8 दिन था। वहीं राजस्थान के अलावा कई राज्यों में हालात बिगड़े हुए हैं।
 
प्रधानमंत्री ने की मुख्यंमत्री के प्रयासों की प्रशंसा
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री शुरू से ही सजग और सतर्क हैं। यही वजह रही कि आज हुई वीडियो काॅन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री ने मुख्यंमत्री द्वारा कोरोना के दौरान किए प्रबंधन की तारीफ की और अन्य राज्यों के लिए भी अनुकरणीय बताया।  
 
लाॅकडाउन पीरियड का राजस्थान ने किया सदुपयोग
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोरोना के दौरान घोषित लाॅकडाउन पीरियड को चिकित्सा विभाग एक सुअवसर की तरह ले रहा है। इस दौरान प्रदेश में सभी चिकित्सा संस्थानों की व्यवस्थाओं को मजबूत करने का काम किया जा रहा है। यही वजह है कि मुख्यमंत्रियों से हुई वीडियो काॅन्फ्रेसिंग में प्रधानमंत्री ने राजस्थान की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में सभी चिकित्सा संस्थान सभी आधारभूत सुविधाओं से लैस होंगे।
 
सामान्य बीमारियों के उपचार की भी पूर्ण व्यवस्था
डाॅ. शर्मा ने बताया कि कोविड के अलावा अन्य बीमारियों के उपचार पर भी आज की वीडियो काॅन्फ्रेसिंग में चर्चा हुई थी। राज्य सरकार ने पहले ही अन्य बीमारियों के उपचार के लिए 400 मेडिकल मोबाइल ओपीडी वैन उपखंड मुख्यालयों तक भेजी हुई हैं। इन वाहनों से हजारों की संख्या में लोग चिकित्सकीय सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं। अस्पतालों में भी कोविड के अलावा अन्य बीमारियों के उचित उपचार की व्यवस्था की हुई है। प्रदेश के बाशिंदों को किसी भी लिहाज से चिकित्सकीय सुविधाओं की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।
 
प्रदेश भर में बढाई जा रही हैं जांच सुविधा
उन्होंने बताया कि प्रदेश में जांचों की सुविधा में बढ़ोतरी लगातार की जा रही है। प्रदेश में आदिनांक तक 5584 टेस्ट प्रतिदिन हो सकते हैं। जयपुर और जोधपुर में कोरोना संक्रमितों की जांच में तेजी लाने के लिए राज्य सरकार ने महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए कोबास-8800 मशीनों के खरीदने के आदेश दे दिए हैं। भीलवाड़ा में आईसीएमआर द्वारा जांच की अनुमति मिल गई है। इसके अलावा जोधपुर के डेजर्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट में भी 300 जांच प्रतिदिन करवाने के सुविधा प्रारंभ हो गई है।