बल्लभगढ़ (हरियाणा) से आये चार लोगों को भिजवाया क्वारेंटाइन तकनीकी...

बल्लभगढ़ (हरियाणा) से आये चार लोगों को भिजवाया क्वारेंटाइन तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने जांच के दिये निर्देश

जयपुर, 15 अप्रैल। तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने भरतपुर जिले को सेवर पंचायत समिति क्षेत्र के इकरन गाँव में बल्लभगढ़ (हरियाणा) से पहुँचे चार लोगों को क्वारेंटाइन भिजवाने के निर्देश दिये वहीं सीमा सील होेने के बाद इन लोगों के इकरन गाँव पहुँचने के मामले में पुलिस अधीक्षक को जांच करने के आदेश दिये  हैं। 
 
डॉ. गर्ग ने बताया कि इकरन गाँव के लोगों से सूचना मिली कि बल्लभगढ़ (हरियाणा) से वकील पुत्र रज्जब, शाहरा पत्नि वकील, सागर पुत्र वकील, सनी पुत्र वकील गांव पहुँचे हैं जिस पर उप खण्ड अधिकारी एवं पुलिस को निर्देश दिये कि तत्काल इन्हें क्वारेंटाइन भिजवाया जाये साथ ही पुलिस अधीक्षक को भी निर्देश दिये हैं कि सीमा सील होने के बाद किस रास्ते से ये लोग इकरन गांव पहुँचे जिसकी जांच कर सूचना भिजवायें। 
 
अग्नि पीडित परिवार को सहायता देने के दिये निर्देश
 
सेवर पंचायत समिति क्षेत्र की ग्राम पंचायत मडरपुर के गांव नगला लोधा में अग्नि पीडित परिवार को शीघ्र सहायता मुहैया कराने के निर्देश उपखण्डाधिकारी को दिये हैं।
 
तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने बताया कि नगला लोधा गांव के हरीश चन्द लोधा के पशुबाडे में आग लगने की सूचना पर तत्काल नगर निगम की दमकल को मौके पर भिजवाया और घटना की जानकारी उपखण्डाधिकारी एवं तहसीलदार को भी दी। जिस पर दमकल ने मौके पर पहुँच कर आग पर काबू पाया। आग से हरीश चन्द के पशुबाडे में बंधी एक भैंसे एवं पडिया बुरी तरह झुलस गई और चारा व ईधन जल कर राख हो गया। जिस पर उपखण्डाधिकारी एवं तहसीलदार को शीघ्र सर्वे कर पीडित परिवार को सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। 
 
विधायक निधि से क्रय की गई तीन डायलेसिस मशीनें पहुँची भरतपुर पॉजिटिव मरीजों की भी शुरु हो जायेगी डायलेसिस
 
भरतपुर विधायक एवं तकनीकी व संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग द्वारा विधायक निधि से स्वीकृत राशि से क्रय की गई तीन डायलेसिस मशीनें आरबीएम चिकित्सालय में पहुँच गई हैं। इन मशीनों के शुरु होने के बाद एचआईवी पॉजिटिव मरीजों की डायलेसिस भी चिकित्सालय में शुरु हो जायेगी। 
 
डॉ. गर्ग ने बताया कि आरबीएम चिकित्सालय में तीन डायलेसिस मशीनें कार्य कर रही हैं किन्तु एचआईवी पॉजिटिव मरीजों के लिए अलग से मशीनों की व्यवस्था नहीं होने की वजह से उन्हें डायलेसिस के लिए जयपुर अथवा अन्य शहरों में जाना पड़ता था। इस दृष्टि से उन्होंने विधायक निधि से तीन डायलेसिस मशीनें खरीदने के लिए 26 लाख रुपये की अभिशंषा की जिस पर तीन मशीनें आरबीएम चिकित्सालय में पहुँच गई हैं जिन्हें गुरूवार को स्थापित कर चालू कर दिया जायेगा। इनमें से एक मशीन को एचआईवी पॉजिटिव मरीजों के लिए आरक्षित रखा जायेगा ताकि इन रोगियों का डायलेसिस भरतपुर में ही हो सके।