उद्योगपतियों से मुख्यमंत्री राहत कोष में अधिक से अधिक धनराशि जम...

उद्योगपतियों से मुख्यमंत्री राहत कोष में अधिक से अधिक धनराशि जमा कराने की कि अपील - श्रम राज्य मंत्री

 जयपुर, 26 मार्च। श्रम राज्य मंत्री श्री टीकाराम जूली ने कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के कारण प्रदेश में पूर्ण लॉक-डाउन की स्थिति को देखते हुए उद्योगपतियों से आगे आकर मुख्यमंत्री सहायता कोष में अधिक से अधिक धनराशि सहायता के रूप में उपलब्ध करवाने की अपील की है।                 
 
        श्रम राज्य मंत्री श्री जुली ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार अपनी ओर से हर संभव उपाय करने के प्रयास कर रही है। श्रम विभाग की ओर से इन उपायों के तहत 310 करोड़ रुपए भवन एवं अन्य सनिर्माण श्रमिक कल्याण मंडल से राजकॉम्प इंफो सर्विसेज लिमिटेड (आरआईएसएल) को उपलब्ध कराए गए है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक जिला कलक्टर को उनकी ओर से  चयनित संस्था-निकाय के बैंक खाते में राशि हस्तांतरित की गई है। उन्होंने बताया कि जयपुर जिले को एक करोड़, अन्य संभागीय मुख्यालय वाले जिलों को 75 लाख एवं शेष जिलों को 50 लाख रुपए हस्तांतरित किए जा रहे हैं। 
 
      श्रम राज्य मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ इस स्थिति से उबरने का प्रयास कर रही है और प्रदेश के श्रमिकों एवं अन्य नागरिकों को घबराने की बिल्कुल आवश्यकता नहीं है। अपने व्यक्तिगत योगदान के रूप में श्रम विभाग के प्रत्येक अधिकारी, कर्मचारी एवं संविदा कर्मियों ने अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में देने की घोषणा की है। उन्होंने स्वयं ने भी अपना एक माह का वेतन इस कोष में जमा कराने की घोषणा की है और अन्य कई उपाय भी किये गये हैं। किसी भी श्रमिक को किसी भी प्रकार की असुविधा उत्पन्न होती है तो वह श्रम विभाग की हैल्प लाईन 1800-1800-999 पर सम्पर्क कर सकता है।