प्रदेश भर में लिए 6557 हजार सैंपल, 6289 मिले नेगेटिव 108 कोरोना पॉजीटिव, 19 ...

प्रदेश भर में लिए 6557 हजार सैंपल, 6289 मिले नेगेटिव 108 कोरोना पॉजीटिव, 19 को किया पॉजीटिव से नेगेटिव आमजन के सहयोग से ही कम्यूनिटी में फैलने से रोक पाना संभव -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

जयपुर, 01 अप्रेल। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश में अब तक 6557 सैंपल लिए जा चुके हैं, जिनमें से 6289 नेगेटिव आए हैं, जबकि 178 सैंपलों की जांच अभी प्रक्रियाधीन है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की मेहनत से अब तक 19 पॉजीटिव मरीजों को नेगेटिव किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में आमजन के शत-प्रतिशत सहयोग से ही कोरोना को कम्यूनिटी में फैलने से रोका जा सकता है।
 
अब तक तक 108 पॉजीटिव
 
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य में बुधवार दोपहर 3 बजे तक 15 नए कोरोना पॉजीटिव मरीज सामने आए हैं। उनमें से 13 जयपुर के रामगंज में आए पॉजीटिव के संबंधी ही हैं, जबकि 1 ईरान से इवेक्यूएट कराकर लाई गई महिला पॉजीटिव आई है, जो कि आर्मी कैंप में क्वारेंटाइन में थी। इसके अलावा एक 65 वर्षीय पुरुष जोधपुर के एमडीएम अस्पताल, जोधपुर में भर्ती थे। इस तरह राज्य में कुल कोरोना पॉजीटिव की संख्या 108 हो गई है। 
 
पॉजीटिव से नेगेटिव 19 में से 15 को किया डिस्चार्ज
 
डॉ. शर्मा ने बताया कि 19 लोग अब तक कोरोना को कुचक्र को तोड़कर नेगेटिव हो चुके हैं। उनमें से 15 लोगों को डिस्चार्ज भी कर दिया है, जबकि 4 को ऑब्जर्वेशन में रखा गया है। उन्होंने बताया कि भीलवाड़ा में जहां अकेले 26 पॉजीटिव केसेज आए थे वहां चिकित्सकों की मेहनत से 13 लोग पॉजीटिव से नेगेटिव में परिवर्तित हुए हैं। अन्य 6 लोग प्रदेश के विभिन्न जिलों से हैं। 
 
97 हजार क्वारेंटाइन बैड तैयार 
 
उन्होंने बताया कि 1 लाख क्वारेंटाइन बैड के लक्ष्य के अनुसार अब तक 97 हजार बैड चिन्हित कर लिए गए हैं। आइसोलेशन के 18182 बैड चिन्हित कर लिए और वे तैयार हैं। उन्होंने कहा कि विभाग के पास वेंटीलेटर्स पर्याप्त मात्रा में हैं। 250 वेंटिलेटर्स को खरीदने का ऑर्डर दिया जा चुका है। 10020 पीपीई किट और 69739 एन-95 मास्क हमारे पास उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि बफर स्टाक में 3031 पीपीई किट, 36764 एन-95 मास्क भी विभाग के पास उपलब्ध हैं।
 
प्रदेश के करीब 3.86 करोड़ से ज्यादा लोगों की हुई स्क्रीनिंग 
 
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि विभाग द्वारा 27 हजार लोगों की टीमें घर-घर जाकर एक्टिव सर्विलांस में लगी हुई हैं और घर-घर जाकर सर्वे और स्क्रीनिंग का काम कर रही है। टीम ने अब तक 92 लाख 9686 घरों का सर्वे कर 3 करोड़ 86 लाख 23 हजार लोगों का सर्वे कर उनकी स्क्रीनिंग कर चुके हैं। सर्वे और स्क्रीनिंग का काम निरंतर जारी है। हमारा लक्ष्य है कि राज्य के प्रत्येक व्यक्ति की व्यक्तिगत स्क्रीनिंग हो ताकि संदिग्ध केसेज की पहचान हो सके। उन्होंने कहा कि संदिग्ध लोगों के सैंपल लेकर उनकी जांच हो जाए ताकि कोरोना प्रदेश में पैर ना पसार सके। 
 
पॉजीटिव के संपर्क में आए 2000 लोगों की हुई ट्रेसिंग 
 
डॉ. शर्मा ने बताया कि 108 कोरोना पॉजीटिव लोगों के संपर्क में आए 2000 से ज्यादा लोगों की ट्रेसिंग कर उनकी भी स्क्रीनिंग की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में हालात चिंताजनक हैं लेकिन नियंत्रण में है। उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील करते हुए कहा कि जितना हो सके सोशल डिस्टेंसिंग अपनाएं। लॉकडाउन का पालन करते हुए घरों से बाहर बिल्कुल ना निकलें। बार-बार साबुन से हाथ धोएं। अपना और अपने परिवार का ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि एक अनुशासित राजस्थानी के रूप में यदि आप सरकार द्वारा जारी सभी गाइड लाइंस का अनुसरण करेंगे तो कम्यूनिटी स्प्रेडिंग के खतरे को हम कम कर सकेंगे और राज्य में इसके फैलाव को रोक सकेंगे।